पानी और खनिज

जल और खनिज:-

पहाड़ियों में बहुत अधिक पानी उपलब्ध होने के बावजूद स्थानीय सस्तर पर मुख्य समस्या पीने का पानी है। इन पानी के स्रातों का पूरी तरह से बड़े पैमाने पैर पीने के पानी, सिंचाई, बिजली उत्पादन और ताजे पानी के उत्पादों आदि  के लिए प्रयोग किया, जिसका मुख्य कारण गैर-आर्थिक नियोजन और प्रबंधन, पूंजी संसाधन की कमी, स्थानीय लोगों से असहयोग,भौगोलिक स्थान के कारण है । जिले में यह समस्या बहुत चिर परिचित  है जबकि यहाँ कई नदी और प्राकृतिक जल स्रोत उपलब्ध हैं

अलकनंदा नदी, गंगा की प्रमुख सहायक नदियों में से एक है, जो जिले की पश्चिमी सीमा के किनारे बहती है और पौड़ी को टिहरी गढ़वाल, देहरादून, हरिद्वार के सीमावर्ती जिलों से अलग करती है।  नययार नदी ज़िले के क्षेत्र में प्रमुख नदी  है और अलकनंदा की प्रमुख सहाय नदियों में से एक है। इसे सतपुली में पूर्वी और पश्चिमी नय्यर के संगम के बाद नय्यर कहा जाता है। दोनों नय्यर दूदातोली सीमा से उत्पन्न होती हैं और दक्षिणी तक बहती है । पूर्वी नय्यर एक लंबा अर्धवृत्ताकार चक्र लेती है, जबकि पश्चिमी नयार संगम तक लगभग सीधे बहती है। अन्य धाराएँ के माध्यम से नायर नदी में पानी की आपूर्ति होती  है। जिलों की एक और महत्वपूर्ण नदियों में पश्चिमी रामगंगा, मालिनी, खोह हैं। पश्चिमी रामगंगा नदी पौड़ी गढ़वाल के दूधातोली पर्वत से निकली है और पौड़ी गढ़वाल में फिर से प्रवेश करने से पहले नैनीताल में प्रवेश करती है। दीवाल, रिवासन आदि छोटी छोटी नदियां हैं, जिनमे वर्षा के दौरान ही पानी रहता है ।

पीने के पानी के अलावा, सिंचाई और बिजली उत्पादन के लिए इन जल संसाधनों का फायदा उठाया जा सकता है। हाल के दिनों में अलकनंदा नदी में कई बड़े और छोटे जल विद्युत परियोजनाएं प्रस्तावित की गई हैं। एक इसी प्रकार परियोजना श्रीनगर के निकट प्रगति पर है। यह दावा किया जाता है कि यह परियोजना बिजली उत्पन्न करने के लिए कम पानी का उपयोग करने की दिशा में एक कदम है। पौड़ी गढ़वाल के तलहटी में जंगल के मध्य चिल्ला पनबिजली परियोजना, जो हरिद्वार से लगभग 10 किमी है, स्थित है।   यह परियोजना गंगा नदी के जल का प्रयोग करके चल रही है।

खनिज पदार्थ:-

खनिज अकार्बनिक पदार्थ होते हैं, जिनमें एक या एक से अधिक तत्व होते हैं। चट्टानों में खनिज होते हैं  । यह एक सामान्य विश्वास है कि पूरा हिमालय खनिज संपदा में समृद्ध है। पिछले 80 वर्षों के दौरान, कई भौगोलिक वैज्ञानिक गढ़वाल की पहाड़ियों के अलग-अलग हिस्सों में सर्वेक्षण और पूर्वेक्षण कार्य किये । उन्होंने धातु अयस्कों के अलावा,  जो कि आम लोगों (कॉपर, लेड, जिंक, सिल्वर, गोल्ड, आयरन) पहले से ही जानते थे, कई नए खनिजों की पहचान की ।  खनिजों की मौजूदगी और उनके विभिन्न कारणों से स्थानीय गैर-उपयोग के बीच भारी अंतर होने के कारण खनिज उद्योग के विकास में सबसे बड़ी समस्या है।

इस क्षेत्र में महत्वपूर्ण खनिज चूना पत्थर, सोना, ग्रेफाइट, सल्फर आदि खनन के लिए उपलब्ध है।  चूने का उत्पादन चूना पत्थर से किया जाता है, जो सीमेंट के निर्माण और सभी निर्माण कार्यों में उपयोग होता है। जिले में चूना पत्थर लैंसडाउन और श्रीनगर में मौजूद हैं। सल्फर  और ग्रेफाइट श्रीनगर के निकट अलकनंदा की घाटी में पाए गए हैं। जिले के लालढांग के पास हार्ड कोयला पाया गया है। ऊपरी शिवालिक पहाड़ी के  पौड़ी गढ़वाल के कलचुर क्षेत्र में एक 60 किमी लंबी और दो से पांच किमी चौड़ी पट्टी में गोल्ड की मौजूदगी पाई गई है।

भूगर्भिक रूप से नयार में तीन मुख्य लिथो-टेक्टोनिक इकाइयां हैं – प्रथम उत्तर में अल्मोड़ा क्रिस्टलीय और पूर्वोत्तर भाग में  थलीसैण, बीरोंखाल, पौबो और पौड़ी, दूसरी जौनसार के तलछटयुक्त बेल्ट के रूप में, रिखणीखाल, बीरोंखाल और जहरीखाल विकास खंड में क्रोल-ताल और शिवालिक बेल्ट के रूप में तीसरा। आर्थिक दृष्टि से, कोरल चूना पत्थर चीनी उद्योग एवं चूने के उद्योग में काम में आता है । जबकि जिप्सम के कुछ अंश करोल चूना पत्थर में दिखाई देते हैं। फाइलिट्स और स्लेट का निर्माण छत टाइल और उसके कंक्रीट का प्रयोग भवन और सड़क सामग्री में किया जाता है । बीरोंखाल और थालीसैण क्षेत्र में सीसा और जस्ता खनिज देखा गया है। भवन निर्माण में नदी की रेत, बजरी और बाजरी का उपयोग किया जाता है। अल्मोड़ा क्रिस्टलीय में कुछ अभ्रक के गुच्छे बहुत बड़े होते हैं और स्थानीय लोगों द्वारा खुदाई करके निकल लिए जाते हैं।